NewsEducationSchemeLoanRajasthan NewsBankingEmitraJobs

CAA kya hai in hindi | मोदी सरकार ने जारी किया नोटिफिकेशन, यहां से देखे संपूर्ण जानकारी

By Rajasthanhelp

Updated on:

अन्य लोगों को शेयर करे

WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now

CAA kya hai in hindi: केंद्र सरकार ने आज नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) को लेकर नोटिफिकेशन जारी कर दिया है. आइए इस खबर के माध्यम से जानते हैं कि CAA KYA hai और इसे लागू करने से देश में क्या बदलाव होगा?

What is CAA | सीएए क्या है

अगर कोई व्यक्ति भारत के तीन पड़ोसी देश (पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान) से उत्पीड़न या किसी और कारण अपना देश छोड़कर भारत में आना चाहते है तो इस सिटीजनशिप अमेंडमेंट एक्ट के जरिए उन शरणार्थियों को भारत की नागरिकता मिल जाती है। ऐसे में उन शरणार्थियों को ये साबित करना होगा कि वो भारत में पांच साल रह चुके हैं। बता दें कि इस कानून को भारतीय संसद में 11 दिसंबर, 2019 को पारित किया गया था। यह भी बता दें कि यह अधिनियम सिर्फ 6 समुदाय के अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता प्रदान करने की अनुमति देता है।

नागरिकता संशोधन कानून, 2019 (सिटीजनशिप अमेंडमेंट एक्ट) भारत के तीन पड़ोसी मुस्लिम बाहुल्य देश पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान के उन अल्पसंख्यकों को भारतीय नागरिकता देने का रास्ता खोलता है, जो दिसंबर 2014 तक किसी न किसी प्रताड़ना का शिकार होकर भारत में शरण लिए हुए हैं. इसमें गैर-मुस्लिम माइनोरिटी- हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के लोग भी शामिल हैं. बता दें कि भारत के मुस्लिमों या किसी भी धर्म और समुदाय के लोगों की नागरिकता को CAA से कोई खतरा नहीं है.।

 

CAA Full form in Hindi

Citizenship Amendment Act यानि की नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) है।

CAA Act in hindi

CAA kya hai in hindi

CAA नागरिकता संशोधन कानून 2019, तीन पड़ोसी देशों (पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश) के उन अल्पसंख्यकों को भारतीय नागरिकता देने का रास्ता खोलता है, जिन्होंने लंबे समय से भारत में शरण ली हुई है। इस कानून में किसी भी भारतीय, चाहे वह किसी मजहब का हो, की नागरिकता छीनने का कोई प्रावधान नहीं है। भारत के मुस्लिमों या किसी भी धर्म और समुदाय के लोगों की नागरिकता को इस कानून से कोई खतरा नहीं है। 

CAA Notification India

भारतीय नागरिकता पाने की पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन रखी गई है…इसे लेकर एक ऑनलाइन पोर्टल भी तैयार हो चुका है. इस पोर्टल पर आवेदकों को अपना वह साल बताना होगा…जब उन्होंने बिना किसी दस्तावेज के भारत में प्रवेश किया था. नागरिकता पाने के लिए आवेदकों से किसी तरह का कोई दस्तावेज नहीं मांगा जाएगा. पात्र विस्थापितों को सिर्फ ऑनलाइन पोर्टल पर जाकर अपना आवेदन करना होगा. जिसके बाद गृह मंत्रालय आवेदन की जांच करेगा और आवेदक को नागरिकता जारी कर दी जाएगी.।

CAA Rules पर विवाद का कारण 

दरअसल नागरिकता संशोधन कानून को लेकर मुस्लिमों ने बड़े पैमाने पर विरोध किया था. दरअसल इस कानून में मुस्लिमों को शामिल नहीं किया गया है, इसमें सिर्फ बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के उन अल्पसंख्यकों को भारतीय नागरिकता देने का प्रावधान है, जिनमें हिंदू, बौद्ध, सिख, ईसाई, जैन और पारसी शामिल हैं. ये अल्पसंख्यक पिछले कई सालों से भारत में शरणार्थी बनकर रह रहे हैं.।

मुस्लिमों का तर्क है कि यह भेदभावपूर्ण है, क्योंकि इसमें मुस्लिमों को शामिल नहीं किया गया. इसे लेकर ही लंबे समय तक विवाद रहा.।

Caa का फुल नोटिफिकेशन पीडीएफ  पहले पाने के लिए Yes/No

 

 


अन्य लोगों को शेयर करे

Related Post

Leave a Comment